Sunday, July 3, 2022

इन आयुर्वेदिक तरीकों से घटा लें अपना वजन, नहीं होगा कोई साइड इफेक्ट


Fat Burning Ayurvedic Tips: बढ़ा हुआ वजन और शरीर पर चढ़ा फैट सिर्फ आपके लुक्स को खराब नहीं करता. या कहिए कि  लुक्स पर कोई असर नहीं डालता. हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि कुछ लोगों पर फैट बहुत सूट करता है. हालांकि ये फैट आपके शरीर को कई तरह की बीमारियों का घर बना देता है. इनमें हार्ट डिजीज से लेकर लाइफस्टाइल डिजीज तक बहुत कुछ शामिल है.

आज हमारा मकसद आपको मोटापे से होने वाले नुकसान गिनाना नहीं है. बल्कि हम आपके लिए कुछ ऐसे आयुर्वेदिक टिप्स लेकर आए हैं, जिनके जरिए आप घर बैठे आराम से अपना वजन कम सकते हैं और सैकड़ों बीमारियों से बच सकते हैं.

आपको नहीं करने हैं ये काम

  • खान-पान से जुड़े आयुर्वेद के कुछ नियम आपको हैरान कर सकते हैं. क्योंकि ये मॉडर्न लाइफस्टाइल के एकदम उलट हैं. जैसे, शाम को 7 बजे तक रात का खाना खा लें और आठ बजे के बाद कुछ ना नाएं. आपको जानकर शायद यकीन ना हो लेकिन मलाइका अरोड़ा जैसी सुपर फिट सिलेब्रिटी शाम साढ़े सात बजे अपना डिनर पूरा कर लेती हैं.
  • खाने के बाद मीठा ना खाएं. खाना खाने के तुरंत बाद मीठे में हम लोग दूध या मावे से बनी मिठाइयां खाते हैं. हालांकि आयुर्वेद के अनुसार यह एकदम गलत प्रथा है. यदि मीठा खाना ही है तो थोड़ा-सा गुड़ खाएं. खोए, मावे और दूध से बनी चीजें बिल्कुल नहीं खानी हैं.
  • खाने के बाद गिलास भरकर पानी ना पिएं. आयुर्वेद खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीने के लिए बिल्कुल मना करता है. यदि बहुत प्यास लगी तो सिर्फ एक-दो घूंट पानी पिएं. यदि अधिक पीना है तो गुनगुना पानी पिएं. क्योंकि भोजन के ऊपर ठंडा पानी पीने से पाचकाग्नि मंद पड़ जाती है और पाचन धीमा हो जाता है. इससे शरीर में ब्लोटिंग की समस्या, गैस बनना और अपच इत्यादि हो सकते हैं.

आपको जरूर करने के हैं ये काम

  • अपने भोजन में जितना हो सके मैदा का उपयोग घटा दें. क्योंकि यह आंतों के अंदर जमा होने लगती है और पेट में कई तरह की गड़बड़ियां पैदा करती है.
  • शुगर यानी चीनी की मात्रा कम करें. मीठा खाने की क्रेविंग को सीमित मात्रा में गुड़ या शहद खाकर शांत करें. ध्यान रखें कि ये दोनों चीजें स्वास्थ्यवर्धक होती हैं लेकिन अत्यधिक उपयोग से नुकसान हो सकता है.
  • तीनों टाइम का भोजन एक तय समय पर करें. इससे बायलॉजिकल क्लॉक सही रहती है. शरीर को पूरा पोषण मिलता है और शरीर अधिक स्वस्थ रहता है.
  • ऑइल का चुनाव सोच-समझकर करें. क्योंकि  यदि खाने में उपयोग किया जाने वाला तेल सही नहीं हुआ तो यह आपके शरीर को डायबिटीज का घर बना सकता है. जी हां, हैरान ना हों क्योंकि यह बात सही है कि गलत तेल या घी उपयोग करने से शुगर का रोग हो सकता है.
  • हर दिन सुबह के समय और रात को खाना खाने के बाद वॉक जरूर करनी है. सुबह के समय तेज कदमों से चलना होता है तो खाना खाने के बाद धीमी चाल से वॉक करनी चाहिए. दोनों समय कम से कम 30 मिनट की वॉक जरूर करें.
  • योग और ध्यान को अपने जीवन का हिस्सा बना लें. ये आपको स्लिम और फिट रखने में मदद करते हैं. आपके मन में यह सवाल आ सकता है कि ध्यान लगाने से कैसे वेट घटता तो आपको बता दें कि मेडिटेशन मन को शांत रखने और तनाव को कम करने का काम करता है. इससे कार्टिसोल हॉर्मोन नियंत्रित रहता है और बॉडी फंक्शन सुचारू रूप सो होता रहता है. कार्टिसोल कई डायरेक्ट-इनडायरेक्ट तरीकों से फैट बढ़ाने का काम करता है.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की एबीपी न्यूज़ पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

यह भी पढ़ें: हमेशा हेल्दी रहने के लिए इन बासी चीजों का न करें सेवन, हमेशा रहेंगे फिट

यह भी पढ़ें: Bread खाने वाले हो जाए सावधान, सेहत को हो सकते हैं ये नुकसान

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,377FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles